प्रतापगढ़

जीरावता पंचायत के खेल मैदान में आयोजित हुआ जमीन बचाओ आरक्षण बचाओ चिंतन शिविर

दलोट। आदिवासी परिवार का एक दिवसीय जमीन बचाओ आरक्षण बचाओ चिंतन शिविर का आयोजन किया गया आयोजन में विभिन्न वक्ताओं द्वारा वक्तव्य दिया गया तथा चिंतन मनन किया गया।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के ब्लॉक संयोजक किशन लाल मईड़ा ने बताया कि आदिवासी समुदाय में सांस्कृतिक एवं संवैधानिक जन जागरण करने के लिए के लिए यह चिंतन शिविर आयोजित किया गया।
मानगढ़ से आए जोरावर पारगी ने कहां है कि युवाओं में जागृति लाने के लिए आदिवासी साहित्य तथा शिक्षा पर जोर देना बहुत जरूरी है।
पंचायत समिति सदस्य लक्ष्मण निनामा ने युवाओं को आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित किया। भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक मांगीलाल निनामा ने कहा कि पूरे देश के संदर्भ में देखें तो प्रतापगढ़ जिले में सबसे ज्यादा घोटाले और भ्रष्टाचार यहां हो रहा है कानून में सबसे ज्यादा आदिवासियों को मुलजिम भी प्रतापगढ़ जिले में बनाया जा रहा है आदिवासियों के साथ शोषण अन्याय चरम सीमा पर है।
आगे निनामा ने कहा है कि प्रतापगढ़ को घोटालों का केंद्र बना दिया है।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के प्रदेश महासचिव रमेश निनामा ने बताया कि जनता की समस्या को उठाना हमारी जिम्मेदारी है युवाओं को ज्यादा से ज्यादा जनता की समस्या को उठाना होगा एवं जो सरकारी खजाने का दुरुपयोग कर रहे चोर ,भ्रष्टाचार एवं बेईमानों को बेनकाब करना होगा।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के प्रदेश प्रचारक रमेश मईडा ने कहा आदिवासी समाज की संस्कृति एवं विरासत को बचाने की जिम्मेदारी हमारी है जिसके लिए कोई गैर समुदाय आगे नहीं आएगा इसलिए गंभीरता से हमारी संस्कृति को बचाने के ऊपर काम करें।
सामाजिक कार्यकर्ता राजेश डिंडोर ने कहा आदिवासी समुदाय में गैर संस्कृति का प्रचार करने वाले संगठनों पर रोक लगानी चाहिए।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के जिला संयोजक मदन कटारा ने आदिवासी समुदाय को एक होने के लिए कहा।
सामाजिक कार्यकर्ता इंदरमल ने शादियों में अनावश्यक खर्च रोकने के प्रयास पर चर्चा की।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के ब्लॉक संयोजक अरनोद के दिलीप राणा ने आदिवासी के आरक्षण से बचाने के लिए सबको एक जाजम पर आने के लिए के लिए कहा।
भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा के पूर्व जिला संयोजक शानू हाडा ने कहां है कि आदिवासी स्वाभिमानी हैं और स्वाभिमान बरकरार रखें।
दिनेश राणा ने बताया की पांचवी अनुसूची सरकारी धरातल पर लागू नहीं करना चाहती है इसलिए हमें जागरूक होकर आवाज उठानी चाहिए। बांसवाड़ा से आए प्रभु लाल कटारा ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के माध्यम से समाज को जागरूक करने के लिए कहा।सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद बुज ने ग्राम सभा के माध्यम से गांवों को सशक्त करने के लिए कहा।
किशन अहारी आदिवासी कर्मचारी संगठन के जिला अध्यक्ष ने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों से निवेदन किया। स्थानीय आयोजन समिति ने प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से पूरी मेहनत और लगन से कार्यक्रम को सफल बनाने का प्रयास किया। कार्यक्रम का संचालन दिनेश निनामा ने किया आभार व्यक्त पंचायत समिति सदस्य ईश्वर द्वारा किया गया।

तारूसिंह यादव

Tarusingh Yadav National Chautha Samay News City Reporter, Pratapgarh (Rajasthan), Contact: +91 88299 42088, Email: [email protected], Corporate Office Contact; +917891094171, +919407329171, Email' [email protected]

Related Articles

Back to top button