पंचायत समयप्रदेशप्रशासनिकभोपालमध्यप्रदेश

MP Panchayat elections 2021 update: निर्वाचन क्षेत्रों में 3 साल से पदस्थ अधिकारी हटाए जाएंगे, इसमें पंचायत सचिव भी शामिल

MP Panchayat elections 2021 update

MP Panchayat elections 2021 update: निर्वाचन क्षेत्रों में 3 साल से पदस्थ अधिकारी हटाए जाएंगे, इसमें पंचायत सचिव भी शामिल

Chautha Samay Inside@Bhopal News

चौथा समय इनसाइड भोपाल। मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव 2021 (MP Panchayat elections 2021) का एलान होने के बाद अब निर्वाचन क्षेत्रों में 3 साल से पदस्थ अधिकारी हटाए जाएंगे। राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने ग्रह और राजस्व विभाग को कार्यवाही कर प्रतिवेदन देने के दिशा निर्देश दिए हैं। गृह विभाग कुछ पुलिस अधिकारियों का स्थानांतरण कर भी चुका है। इसके साथ ही वोटर लिस्ट भी आज 6 दिसंबर को फाइनल हो जाएगी। राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने जिन पंचायतों में परिसीमन हुआ था उसे पूर्ववत स्थिति में लाने के लिए संबंधित जिलों के कलेक्टरों को आदेशित किया था। राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) के सचिव बीएस जामुन ने बताया कि राज्य शासन से उन अधिकारियों को स्थानांतरित करने के लिए कहा गया है, जो सीधे चुनाव प्रक्रिया से जुड़े होते हैं। एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, राजस्व निरीक्षक, डीएसपी, थाना प्रभारी, उपनिरीक्षक, सहायक निरीक्षक, पंचायत सचिव भी इसमें शामिल है।

Big Breaking: पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान: पंचायत चुनाव 3 चरणों में होंगे, आचार सहिता लागु #Super Breaking News | The News Day

राजस्व विभाग से कहा गया है कि विकासखंड स्तर पर किसी भी अधिकारी को 4 साल की अवधि में 3 वर्ष एक स्थान पर पदस्थ नहीं होना चाहिए। यही व्यवस्था पंचायत सचिवों के लिए भी रहेगी। दरअसल आयोग को यह शिकायत मिली थी कि पंचायत सचिव के लंबे समय से एक ही जगह पदस्थ रहने से चुनाव की निष्पक्षता प्रभावित हो सकती है। पुलिस मुख्यालय की ओर से अपने सभी एसपी से एएसपी टीआई और उप पुलिस निरीक्षक के 3 साल से एक ही स्थान पर पदस्थ नहीं होने संबंधी प्रमाण पत्र की मांग भी की है।
राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) के मुताबिक चुनाव की घोषणा होते ही आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है। पंचायत क्षेत्रों में अब कोई भी नया कार्य प्रारंभ नहीं किया जा सकता है, लेकिन जिन कार्यों को लेकर निर्णय हो चुका है, उन पर प्रभाव नहीं पड़ेगा। इसी तरह सरकार पुलिस आयुक्त प्रणाली को लागू करने संबंधी निर्णय को क्रियान्वित करती है तो उस पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

निर्वाचन

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण 14 दिसंबर को

प्रदेश की 52 जिला पंचायत के अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण 14 दिसंबर को होगा। पंचायत राज संचालनालय ने कलेक्टर को निर्देश जारी कर दिए हैं। इसमें कहा गया है कि अनुसूचित जाति, जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और सभी वर्गों में महिलाओं के लिए आरक्षण लॉटरी निकाल कर होगा। आरक्षण की संपूर्ण कार्यवाही जल एवं भूमि प्रबंधन संस्थान (वाल्मी) कलियासोत डैम के पास भोपाल में शुरू होगी। पंचायत विभाग ने सभी कलेक्टरों से कहा है कि आरक्षण की कार्यवाही की सूचना जिला और पंचायत कार्यालय में चस्पा करें।

ग्राम पंचायत में पदस्थ इन सचिवों को हटाने के आदेश

राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग को पत्र लिखकर कहा है कि वर्षों से पदस्थ ग्राम पंचायतों के अधिकारी और कर्मचारियों का स्थानांतरण किया जाए। प्रमुख सचिव को लिखे पत्र में कहा गया है कि स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन के लिए ग्राम पंचायत के सचिव को भी स्थानतरण की परिधि में लाया जाएगा। बता दें कि ऐसे में राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने शासन से अपेक्षा की है कि ग्राम पंचायत के ऐसे सचिव जो ऐसी ग्राम पंचायत में पदस्थ हैं। इस फोन का ग्रह ग्राम सम्मिलित है। ऐसे ग्राम पंचायत सचिव जो 3-4 साल में एक ही ग्राम पंचायत में 3 साल से ज्यादा समय से पदस्थ हैं उन्हें किसी अन्य जगह स्थानतरित कर दिया जाए।

6 दिसंबर तक वोटर लिस्ट अपडेट करने के दिए थे निर्देश

राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने परिसीमन के आदेश के बाद वोटर लिस्ट अपडेट करने का निर्देश जारी किया था। बता दें कि चुनाव को लेकर 2 साल पहले नए परिसीमन के आधार पर मतदाता सूची तैयार हो गई थी। लेकिन यह काम दोबारा किया गया। फाइनल वोटर लिस्ट 6 दिसंबर को प्रकाशित होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button